IPL-13: आज 7 वें लीग मैच में चेन्नई-दिल्ली आमने-सामने, दोनों टीमों की नजर दूसरी जीत पे

    0
    242

    IPL-13: आज 7 वें लीग मैच में चेन्नई-दिल्ली आमने-सामने, दोनों टीमों की नजर दूसरी जीत पे

    डिजिटल डेस्क, दुबई। इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के 13 वें सीजन का 7 वां मैच आज चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) और दिल्ली कैपिटल (DC) के बीच दुबई इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम में खेला जाएगा। मैच का प्रसारण भारतीय समयानुसार शाम 7:30 बजे से होगा। यह लीग चरण में चेन्नई का तीसरा और दिल्ली का दूसरा मैच होगा। चेन्नई ने पिछले 2 मैचों में से 1 में जीत हासिल की और 1 में हार गई। साथ ही, दिल्ली ने अपने पहले ही सुपर ओवर में पंजाब को हरा दिया। अब चेन्नई की नजर सीजन की अपनी दूसरी जीत पर होगी। दूसरी तरफ, दिल्ली यह मैच जीतना चाहेगी और लीग में लगातार दूसरी जीत हासिल करने का प्रयास करेगी। हालांकि, दिल्ली के खिलाफ चेन्नई की टीम बहोत ही तगड़ी है। दोनों टीमों के बीच आखिरी 5 मैचों की बात करें तो चेन्नई ने 4 मैच जीते हैं। चेन्नई ने पिछले सीज़न के बीच खेले गए 3 मैचों में दिल्ली को हराया था। बता दें कि यह दुबई में दोनों टीमों के बीच पहला मैच होगा।

    गेंदबाजी के अलावा चेन्नई को बल्लेबाजी में भी सुधार की जरूरत है
    गेंदबाजों ने राजस्थान के खिलाफ काफी रन बनाए थे और चेन्नई को जीत के लिए 217 रनों की चुनौती दी थी। काफी प्रयास के बाद चेन्नई 16 रनों से मैच हार गई। गेंदबाजी के अलावा टीम ने बल्लेबाजी में भी ज्यादा कुछ नहीं किया। केवल फाफ डु प्लेसिस का बल्ला चला, बाकी सभी फेल हो रहे थे।

    तीसरा मैच खेलते हुए रायडू पर संदेह
    अंबाती रायडू दूसरे मैच में नहीं खेलेगे और उनकी जगह रितुराज गायकवाड़ को चान्स दिया गया है, जो फर्स्ट बोल पे ही आउट हो गए। रायुडू तीसरे मैच में खेलने को लेकर अभी भी अनिश्चित हैं और यह चेन्नई के लिए बड़ी चुनौती साबित हो सकता है। पिछले दो मैचों में, चेन्नई की सलामी जोड़ी विफल रही है, न तो मुरली विजय चले और न ही शेन वॉटसन। दूसरे मैच में, दोनों उस तरह की शुरुआत नहीं दे सके, जैसी टीम को बड़े स्कोर के सामने चाहिए थी।

    पिछले मैच में 7 वें नंबर पर धोनी की बल्लेबाजी को लेकर सवाल उठाए गए थे
    रितुराज, केदार जाधव और खुद धोनी इस मैच में कुछ खास रन नहीं बना पाए कर पाए हैं। पिछले दोनों मैचों में धोनी ने इंग्लैंड के खिलाड़ी सैम कुरैन को उनसे ऊपर बैटिंग करने को भेजा था। चेन्नई के लिए धोनी की नंबर 7 पर बल्लेबाजी एक चर्चा का विषय बन गया था। लेकिन जब तक वह आए और शुरुआत में बल्लेबाजी कर रहे थे, उसे बहुत सवाल खड़े हो गए। उन्होंने आखिरी ओवर में तीन छक्के लगाए थे, लेकिन उसे टीम जे स्कोर से कोई मतलब नहीं था। अभी ये मैच में देखंगे की धोनी पहले आते है और अपने टीम की जिम्मेदारी निभाते है या रायडू को पहिले आने देते है।

    धोनी गेंदबाजी आक्रमण में बदलाव कर सकते हैं
    चेन्नई के स्पिनरों ने गेंदबाजी करते समय खूब रन दिए। चार ओवर में रवींद्र जडेजा ने 40 रन दिए और विकेट भी नहीं ले सके। पीयूष चावला का एक्स्परिंयंस भी काम नहीं आया उनके टीम के लिए। जोफ्रा आर्चर ने आखिरी ओवर में चार छक्के मारे लुंगी नगिदी को, और अगर उन्हें हटाया गया, तो उनका प्रदर्शन ठीक था। कुरैन और दीपक चहर भी औसत प्रदर्शन करने में सक्षम थे। धोनी गेंदबाजी में बदले हुए नामों के साथ उतरेंगे इस बात की पूरी संभावना है।

    दिल्ली को शॉ, धवन और हेटमेयर से अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद है
    अब तक का सबसे दिलचस्प दिल्ली कैपिटल का पहला सीजन मैच था। बल्ले और गेंद दोनों से दिल्ली को मार्कस स्टोइनिस ने बचा लिया। स्टोइनिस ने किंग्स इलेवन पंजाब की आखिरी तीन गेंदों पर एक भी रन नहीं बनने दिया और मैच को सुपर ओवर तक ले गए, जहां कगिसो रबाडा ने दिल्ली का काम आसान कर दिया। दिल्ली की बल्लेबाजी पंजाब के खिलाफ पूरी तरह से ख़राब ही रही है। शिमरेन हेटमेयर, शिखर धवन और पृथ्वी शॉ ने भी जादा रन नहीं बना सके। कप्तान श्रेयस अय्यर और ऋषभ पंत ने टीम को कुछ हद तक संभाल लिए पर पूरी पारी में जादा कुछ खास नहीं कर सके। अंत में, अगर स्टोइनिस ने 21 गेंदों में 53 रन नहीं किये तो दिल्ली के लिए यह बहुत बड़ा स्कोर बना पाना नहुत ही मुश्किल है।

    रविचंद्रन अश्विन की चोट दिल्ली के लिए सबसे बड़ी चिंता है
    गेंदबाजी में दिल्ली को राहत मिली है। एनरिक नार्जे, रबाडा ने तेज गेंदबाजी आक्रमण को संभाला। मोहित शर्मा यहां निश्चित रूप से थोड़े महंगे साबित हुए। रविचंद्रन अश्विन की चोट ही बोल्लर में टीम के लिए सबसे चिंताजनक विषय बन रहा है। पंजाब के खिलाफ पहले ओवर में 2 विकेट लेकर अपनी टीम को होसला बढ़ाने वाले अश्विन को लास्ट बोंल पर रन रोकने का प्रयास करते हुए अपने कंधे को चोट लगा बैठे और वह मैदान से बाहर चला गया था और वापस नहीं लौटा। अगर अश्विन फिट रहते हैं, तो वह जरूर खेलेंगे, लेकिन अन्यथा दिल्ली को अपनी जगह की भरपाई करनी होगी। टीम के पास लेग स्पिनर अमित मिश्रा और संदीप लामिछाने के विकल्प हैं।

    आमने सामने
    आईपीएल में चेन्नई और दिल्ली के बीच धोनी की टीम का पलड़ा भारी है। अब तक दोनों के बीच 21 मैच खेले जा चुके हैं। जिसमें से चेन्नई ने 15 और दिल्ली ने 6 मैच जीते हैं। पिछले सीजन में दिल्ली एक बार भी चेन्नई को नहीं हरा सकी। फिर दोनों के बीच खेले गए 3 मैचों में चेन्नई ने दिल्ली को हराया। बता दें, यूएई में दिल्ली का रिकॉर्ड बहुत खराब था। टीम ने यहां 5 में से 2 मैच जीते और 3 हारे। दूसरी तरफ, चेन्नई ने यूएई में 5 में से 4 मैच जीते।

    टीमें: –

    चेन्नई सुपर किंग्स (CSK): शेन वॉटसन, महेंद्र सिंह धोनी (कप्तान), केदार जाधव, पीयूष चावला, दिव्या ब्रावो, कर्ण शर्मा, शार्दुल ठाकुर, रवींद्र जडेजा, रायुडू, मुरली विजय, फाफ डु प्लेसिस, दीपक चाहर, अंबाती, लुंगी नगिदी, मिशेल सेंटनर, इमरान ताहिर, के.एम. आसिफ, मोनू कुमार, नारायण जगदीशन, ऋतुराज गायकवाड़, जोश हेजलवुड, आर.के. साई किशोर, सैम क्यूरन।

    दिल्ली कैपिटल्स (DC): श्रेयस अय्यर (कप्तान), पृथ्वी शॉ, एलेक्स कैरी, जेसन रॉय, ऋषभ पंत (विकेटकीपर), शिमरन हेटमायेर, अक्षर पटेल, क्रिस वोक्स, मार्कस स्टोइनिस, शिखर धवन, कीमो पॉल, अजिंक्य रहाणे, अमित मिश्रा, ललित यादव, आवेश खान, ईशांत शर्मा, हर्षल पटेल, कागिसो रबाडा, रविचंद्रन अश्विन, मोहित शर्मा, संदीप लामिछाने, तुषार देशपांडे।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here