Rajasthan: Priest Cremated As Family Ends Protest – राजस्थान: जिंदा जलाए गए पुजारी के परिवार को मनाने के बाद उनका अंतिम संस्कार किया गया

    0
    152

    राजस्थान में जिंदा जलाए हुए पुजारी के परिवार को समझाकर अंतिम संस्कार किया गया

    करौली जिले के बुंका गांव में राधा-कृष्ण मंदिर में बुधवार को बाबूलाल वैष्णव हत्या कर दी गई। यह सब जमींन के वाद और विवाद के चलते हुए दबंगों ने उन्हें जला दिया।

    जयपुर: राजस्थान के करौली जिले में आज पुजारी बाबूलाल वैष्णव का अंतिम संस्कार किया गया। पुजारी बाबूलाल वैष्णव की बुधवार को करौली जिले के एक छोटे से गांव बुंका में राधा-कृष्ण मंदिर में हत्या कर दी गई थी। जमीन विवाद के चलते गांव के कुछ दबंग लोगों ने बाबूलाल को जला दिया। बाबूलाल के क्रोधित परिवार ने पहले अंतिम संस्कार करने से इनकार कर दिया था, लेकिन बाद में प्रशासन के मनाने पर सहमत हो गए।

    राजस्थान में पुजारी की हत्या के मामले ने तूल पकड़ लिया है। इस पर राजनीतिक बयानबाजी जोर पकड़ने लगी है। भाजपा नेताओं के एक समूह ने गाँव में पहुँच कर सरकार की कड़ी आलोचना की। हत्या के मामले को लेकर पुजारी का परिवार विरोध कर रहा था। लेकिन आखिरकार प्रशासन के समझाने के बाद, पुजारी बाबूलाल वैष्णव का परिवार उनका अंतिम संस्कार करने के लिए तैयार हो गया। इसके बाद पुजारी का अंतिम संस्कार किया गया।

    एसडीएम ने कहा है कि बाबूलाल वैष्णव ने मौत से पहले अपने बयान में आरोपियों के नाम लिखे थे। उनमें से दो को पुलिस हिरासत में ले लिया गया है और तीन अन्य गिरफ़्तारी करना बाक़ी है।

    इससे पहले, ग्रामीणों सहित पीड़ित परिवार ने गांव में पुजारी की हत्या के मामले में अंतिम संस्कार नहीं करने पर जोर दिया। ग्रामीणों ने मांग की कि जब तक पीड़ित परिवार को न्याय नहीं मिलता, तब तक अंतिम संस्कार नहीं होगा। पुजारी की हत्या का विरोध करने के लिए गांव में ग्रामीणों की भीड़ जमा हो गई। ग्रामीण 50 लाख की आर्थिक सहायता, सरकारी नौकरी, सुरक्षा और आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग कर रहे थे। पीड़ित परिवार को न्याय नहीं मिलने तक ग्रामीण अंतिम संस्कार नहीं कर रहे थे।

    7 अक्टूबर को मंदिर के भूमि विवाद में पुजारी बाबूलाल वैष्णव की हत्या कर दी गई थी। राज्यसभा सांसद डॉ। किरोड़ी लाल मीणा बुंका पहुंचे। उन्होंने परिवार के सदस्यों से मुलाकात की और उन्हें सांत्वना दी। इस घटना को लेकर वह पुलिस अधिकारियों से भी मिलेंगे। सांसद ने पीड़ित परिवार को आर्थिक सहायता और न्याय की मांग की। मीणा ने इस घटना की कड़ी निंदा की और पीड़ित परिवार को आर्थिक सहायता, सरकारी सहायता नहीं मिलने तक डटे रहने का आश्वासन दिया। उन्होंने जिले के पुलिस प्रशासन की भी कड़ी निंदा की।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here