हाथरस कांड में सीबीआई जांच का रास्ता कितना आसान और कितना मुश्किल है, पढ़ें

    0
    157

    हाथरस कांड में सीबीआई जांच का रास्ता कितना आसान और कितना मुश्किल है, पढ़ें

    हाथरस मामले में बहुचर्चित सीबीआई ने उत्तर प्रदेश में एफआईआर दर्ज कर पूछ-ताछ की शुरूवात कर दी है और सीबीआई द्वारा पूछ-ताछ के लिए एक टीम भी बनाई है। आरोपी के तौर पर अभी सिर्फ संदीप का नाम सीबीआई की एफआईआर में है परंतु इस केस को गैंगरेप में जोड़ा गया है।

    घटना के 27 दिन बाद और योगी सरकार की सिफारिश के 11 दिन बाद सीबीआई ने हाथरस की घटना की एफआईआर दर्ज की और जांच शुरू की। हाथरस की घटना जिसमें महिला सुरक्षा, दलित उत्पीड़न, पुलिसकर्मी मनमानी के मुद्दे उत्तर प्रदेश की राजनीति में आग की आग में सुलग रहे थे, अब मैं उस एजेंसी के साथ हाथरस मामले की जाँच के लिए जिम्मेदार हूँ जिस पर सरकार भी भरोसा करती है, आरोपी पक्ष और साथ ही अदालत।

    हाथरस के चंदपा थाना क्षेत्र के बुलगढ़ी गांव में 14 सितंबर को सुबह करीब 9:30 बजे एक युवती के साथ मारपीट और सामूहिक दुष्कर्म की घटना ने उस समय आग पकड़ ली जब 14 साल बाद पीड़ित को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया। 29 सितंबर को इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। सफदरजंग अस्पताल में पीड़िता की मौत होते ही राजनीति जीवंत हो गई। कांग्रेस, भीम आर्मी, महिला संगठनों सहित सभी राजनीतिक दलों ने महिला सुरक्षा और दलित उत्पीड़न के नाम पर उत्तर प्रदेश सरकार को घेरना शुरू कर दिया। नामजद चारों आरोपी ठाकुर बिरादरी के थे, इसलिए उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पर भी जातिवादी होने का आरोप लगाया गया था।

    three अक्टूबर को सीबीआई जांच की सिफारिश

    जब पीड़ित का पार्थिव शरीर हाथरस से दिल्ली पहुंचा, तो आधी रात को पुलिस की मौजूदगी में परिवार को उनके बिना ले जाया गया। 30 सितंबर को हुई घटना के बाद हंगामा बढ़ने लगा, सरकार ने जांच के लिए एक SIT का गठन किया। three अक्टूबर को डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी और अतिरिक्त मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी हाथरस पीड़ित परिवार से मिलने पहुंचे। दोनों अधिकारी हाथरस से लखनऊ पहुँचे। सरकार को सूचना दी। उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा सीबीआई जांच की सिफारिश की गई है।

    सीबीआई की एफआईआर में गैंगरेप की धारा

    three अक्टूबर को, भारत सरकार के गृह मंत्रालय की एक सिफारिश के बाद, DoPT ने 10 अक्टूबर को एक अधिसूचना जारी की। DoPT से मंजूरी मिलने के बाद, 11 अक्टूबर को दोपहर 12:32 बजे, CBI की गाजियाबाद यूनिट की एंटी करप्शन ब्रांच ने एफआईआर दर्ज की। सीबीआई की प्राथमिकी में हत्या, हत्या के प्रयास, गैंगरेप, एससी-एसटी एक्ट की धाराएं लगाई गई हैं।

    सीबीआई की गाजियाबाद इकाई के भ्रष्टाचार निरोधक शाखा पुलिस स्टेशन में दर्ज प्राथमिकी में पीड़ित के भाई द्वारा दर्ज की गई पहली प्राथमिकी को आधार बनाया गया है। हाथरस के चंदपा थाने में 14 सितंबर को, पीड़ित के भाई ने नामजद 136/20 अपराध संख्या के मुख्य आरोपी संदीप सिंह के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की। सीबीआई ने एफआईआर को अपना आधार बनाते हुए इस अपराध संख्या की जांच शुरू कर दी है। सीबीआई डिप्टी एसपी सीमा पाहुजा इस पूरे मामले की जांच करेंगी।

    सीबीआई के लिए जांच आसान नहीं होगी

    हाथरस की घटना की जांच कर रही सीबीआई के लिए राह आसान नहीं होगी। जबकि इस मामले में कथित गैंगरेप और हत्या का दृश्य लोगों की आवाजाही के कारण सुरक्षित नहीं है, सामूहिक बलात्कार की पुष्टि करने और पीटने के लिए पीड़ित का कोई शरीर नहीं है। ऐसी स्थिति में, डॉक्टरों का बयान और रिपोर्ट और सीएचसी के स्थानीय डॉक्टर से अलीगढ़ में जेएन मेडिकल कॉलेज और फिर सब सफदरजंग अस्पताल में पोस्टमार्टम पैनल की रिपोर्ट सीबीआई के सामने महत्वपूर्ण होगी।

    पीड़ित परिवार से जांच एजेंसी के सामने सबसे बड़ी बाधा आ सकती है, क्योंकि पीड़ित परिवार सीबीआई जांच नहीं चाहता था। जबकि जेल में बंद सभी four आरोपियों के पूरे परिवार ने सीबीआई जांच का अनुरोध किया था।

    मोबाइल लोकेशन जांच का सबसे बड़ा आधार बनेगा

    सीबीआई और पीड़िता के भाई संदीप के मुख्य आरोपी संदीप सिंह के मोबाइल लोकेशन पर इन दुष्कर्मों के बीच बातचीत, सीबीआई के लिए एक महत्वपूर्ण सुराग साबित होगी। मुख्य आरोपी संदीप के मोबाइल पर पीड़ित परिवार के नाम से दर्ज मोबाइल नंबरों की कब, कहां, कब और कितनी देर तक बातचीत हुई, इस मामले की गहराई से सीबीआई जांच करेगी। इतना ही नहीं, इस घटना के दिन यानी 14 सितंबर को सुबह 9.30 बजे तक सीडीआर और मोबाइल लोकेशन इस घटना की सबसे महत्वपूर्ण कड़ी होगी। यह कॉल विस्तार से है, जहां एक तरफ मुख्य आरोपी संदीप के साथ तीन अन्य आरोपियों की मौजूदगी की पुष्टि की जाएगी, वहीं दूसरी तरफ, जब आरोपी मौके पर पहुंचा, जब कॉल पहुंची, तो सीबीआई भी इसे सामने लाएं।

    आरोपी पक्ष पहले से ही अपने बेटों को निर्दोष बता रहा है। मुख्य आरोपी संदीप ने जेल से एसपी हाथरस को भेजे गए पत्र में पहले ही स्वीकार कर लिया था कि उसकी पीड़िता के साथ जान-पहचान और दोस्ती थी, जो पीड़ित परिवार को स्वीकार्य नहीं थी। वह घटना के दिन भी पीड़ित से मिलने गया था लेकिन फिर वापस आ गया।

    पीड़ित के वीडियो वाले बयान भी एक सुराग है

    पीड़ित परिवार द्वारा दर्ज की गई पहली प्राथमिकी में, हत्या के प्रयास में केवल संदीप सिंह का नाम था और बाद में सामूहिक बलात्कार और अन्य आरोपियों का उल्लेख किया गया था। पीड़ित के सामने किए गए दो कथित बयानों के वीडियो ने भी मामले को और जटिल बना दिया।

    वर्तमान में, हाथरस की घटना में सीबीआई की प्राथमिकी दर्ज होने के बाद, अब राजनीतिक दलों के साथ-साथ अभियुक्त और पीड़ित परिवार भी निष्पक्ष जांच के लिए आश्वस्त होंगे, दूसरी ओर, सरकार भी खड़ी हो सकेगी पूर्वाग्रह के सभी आरोपों पर।

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here