राजनीति लाहौल स्पीति में जनसभा: पीएम मोदी ने कहा- अटल टनल इस क्षेत्र...

    लाहौल स्पीति में जनसभा: पीएम मोदी ने कहा- अटल टनल इस क्षेत्र के युवाओं को रोजगार के अवसर प्रदान करेगा

    0
    191
    Atal Tunnel will provide employment opportunities to the youth of this region
    Atal Tunnel will provide employment opportunities to the youth of this region

    लाहौल स्पीति में जनसभा: पीएम मोदी ने कहा- अटल टनल इस क्षेत्र के युवाओं को रोजगार के अवसर प्रदान करेगा

    डिजिटल डेस्क, शिमला। प्रधानमंत्री ने शनिवार को हिमाचल प्रदेश के रोहतांग में दुनिया की सबसे लंबी सुरंग ‘अटल सुरंग’ का उद्घाटन किया। पीएम मोदी ने राष्ट्र को सुरंग समर्पित करने के बाद लाहौल स्पीति के सिस्सू में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, “लंबे समय के बाद आप सभी के बीच आना मेरे लिए सुखद अनुभव है।” अटल सुरंग के लिए सभी को बधाई। पीएम ने कहा, सुरंग से राज्य के किसानों, व्यापारियों और किसानों को फायदा होगा और युवाओं के लिए रोजगार के अवसर पैदा होंगे।

    लाहौल-स्पीति और पांगी के किसान अटल टनल के बनने से हों ऐसा PM मोदी जी ने कहा, और इसका लाभ बागवानी से जुड़े लोग, नौकरीपेशा, छात्र, पशुपालक या व्यापारीको ही होगा। अब मटर, आलू और गोभी की लाहौल के किसानों की फसलें बर्बाद ही नहीं होंगी, और बहुत जल्दी बिक्री के लिए बाजार पहुच जाएगी।

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनसभा में ये कहा:

    लाहौल के लोगों के लिए अटल सुरंग के बनने से एक नई उमग पैदा हुई है और उसके बजे से पांगी के लोगों का जीवन लगभग बदल ही गया है। यह सुरंग के बजे से इस साल सभी नए लोगोको रोजगार मिलने वाला है। कुछ होम स्टे चलाएंगे, कुछ गेस्ट हाउस, कुछ ढाबा, कुछ दुकान करेंगे, तो कई साथियों के गाइड के रूप में रोजगार होगा।

    पौधों और कई मसालों का लाहौल स्पीति औषधीय एक नसल है। पूरे देश में ये उत्पादन लाहौल, हिमाचल की समरूपता बन सकते हैं। बच्चों की शिक्षा के लिए पलायन करने की जरूरत अटल सुरंग के बनने के बाद यहां के लोगों को नहीं होगी।

    एक तरह से यह पूरा इलाका पूर्वी एशिया सहित कई देशों के बौद्ध अनुयायियों के लिए एक बड़ा heart बनने वाला है। ये देश अब नई हिमंत के साथ काम कर रहा है। स्पीति के घाटी में स्थित देश में बौद्ध शिक्षा का एक महत्वपूर्ण केंद्र टैबो मठ की दुनिया की पहुंच आसान होने जा रही है। यानी एक तरह से यह पूरा इलाका पूर्वी एशिया सहित दुनिया के कई देशों के बौद्ध अनुयायियों का बड़ा केंद्र बनने जा रहा है।

    अब देश नई सोच के साथ काम कर रहा है। सबका साथ, सबका विश्वास, सबका साथ सबका विकास। अब कितने वोट हैं, इसके आधार पर योजना नहीं बनाई जाती है। अब कोई भी भारतीय पीछे न छूटे ऐसी कोशिश कर रहे है। लाहौल-स्पीति इस परिवर्तन का एक बड़ी मिसाल है।

    यह सुरंग इस क्षेत्र के युवाओं को रोजगार के कई अवसरों से जोड़ेगी। कुछ होम स्टे चलाएंगे, कुछ गेस्ट हाउस, कुछ ढाबा, कुछ दुकान, कई साथियों के मार्गदर्शन के रूप में रोजगार होगा।

    NO COMMENTS

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here