लाइफस्टाइल हेल्थ भीष्म पितामह के अनुसार पति-पत्नी एक थाली में न खाएं खाना, बनता...

भीष्म पितामह के अनुसार पति-पत्नी एक थाली में न खाएं खाना, बनता है ऐसा प्रभाव

0
42
भीष्म पितामह के अनुसार पति-पत्नी एक थाली में न खाएं खाना, बनता है ऐसा प्रभाव

भीष्म पितामह के अनुसार पति-पत्नी एक थाली में न खाएं खाना, बनता है ऐसा प्रभाव

महाभारत युद्ध में घायल होकर सरसैया पर लेटे हुए गंगापुत्र देवव्रत भीष्म पितामह ने अर्जुन को भोजन की थाली के विषय में महत्वपूर्ण संदेश दिए. इनमें एक है- पति-पत्नी को एक ही थाली में भोजन नहीं करना चाहिए.

भीष्म पितामह ने अर्जुन को दिए महत्वपूर्ण संदेशों में कहा है कि जिस थाली को किसी का पैर लग जाए उस थाली का त्याग कर देना चाहिए. ऐसी थाली विष्ठा के समान त्याज्य होती है.
भीष्म ने बताया कि भोजन के दौरान थाली में बाल आने पर उसे वहीं छोड़ देना चाहिए. बाल आने के बाद भी खाए जाने वाले भोजन से दरिद्रता की आशंका बढ़ती है.

भोजन पूर्व जिस थाली को कोई लांघ कर गया हो ऐसे भोजन को ग्रहण नहीं करना चाहिए. इसे कीचड़ के समान छोड़ देने वाला समझना चाहिए. भीष्म पितामह ने अर्जुन को बताया कि एक ही थाली में भाई-भाई भोजन करें तो वह अमृत के समान हो जाती है. ऐसे भोजन से धनधान्य, स्वास्थ्य और श्री की वृद्धि होती है. अर्जुन स्वयं पांच भाई थे और मिलजुल कर और साझा कर के भोजन किया करते थे.

 

link

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here