लाइफस्टाइल हेल्थ हड्डियों को कमजोर बनाती हैं आपकी ये आदतें, बढ़ जाता बीमारियों का...

हड्डियों को कमजोर बनाती हैं आपकी ये आदतें, बढ़ जाता बीमारियों का खतरा

0
हड्डियों को कमजोर बनाती हैं आपकी ये आदतें, बढ़ जाता बीमारियों का खतरा

हड्डियों को कमजोर बनाती हैं आपकी ये आदतें, बढ़ जाता बीमारियों का खतरा

Strong Bones: शरीर को स्वस्थ रखने के लिए आपको उम्र के हिसाब से आहार का सेवन करना चाहिए. आपको जानकर हैरानी होगी कि सिर्फ 25 साल की उम्र तक हड्डियां मजबूत होती हैं. 35 साल की उम्र के बाद हड्डियां कमजोर होने लगती है. धीरे-धीरे शरीर में कैल्शियम की कमी होने लगती है, जिसका असर हड्डियों और दातों पर सबसे ज्यादा पड़ता है. शरीर में कैल्शियम की कमी होने पर कई तरह की बीमारियां होने का खतरा भी रहता है. महिलाओं में उम्र बढ़ने के साथ कैल्शियम की कमी होने लगती है. वहीं बच्चों की हड्डियों के विकास के लिए भी कैल्शियम की जरूरत होती है. कैल्शियम की कमी को पूरा करने के लिए आपके शरीर में विटामिन डी की मात्रा भी पूरी होनी चाहिए. विटामिन डी कैल्शियम को शरीर तक पहुंचाने का काम करता है. अगर शरीर में कैल्शियम को ठीक बनाए रखना है तो आपको कुछ आदतों से दूर रहने की जरूरत है. अगर आपने लापरवाही बरती तो शरीर कई गंभीर बीमारियों से प्रभावित हो सकता है.

हड्डियों को मजबूत बनाने है तो इन आदतों से दूर रहें

1- कार्बोनेटेड का सेवन कम- हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए आपको कार्बोनेटेड पेय जैसे सॉफ्ट ड्रिंक, शैंपेन का सेवन नहीं करना चाहिए. इससे हड्डियों पर असर पड़ता है. कार्बोनेटेड पेय में फास्फेट ज्यादा होता है जो कैल्शियम को कम कर देता है.

2- प्रोटीन सीमित मात्रा में लें- हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए आपको प्रोटीन सेवन भी सीमित मात्रा में करना चाहिए. ज्यादा प्रोटीन के सेवन से एसिडिटी होने लगती है और कैल्शियम टॉयलेट के जरिए शरीर से बाहर निकल सकता है. ज्यादा प्रोटीन से हड्डियों को नुकसान पहुंचता है.

3- एसिडिटी की दवाएं कम लें- एसिडिटी की दवाओं के सेवन से शरीर में एसिड कम बनता है जबकि कैल्शियम, मैग्नीशियम और जिंक जैसे खनिज को अवशोषित करने के लिए पेट में एसिड का होना जरूरी है.

4- कैफीन से परहेज रखें- हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए आपको कैफीन से परहेज करना चाहिए. कैफीन का सेवन करने वालों को कैल्शियम की ज्यादा जरूरत होती है. इससे आपकी हड्डियों पर असर पड़ता है.

5- विटामिन डी का सेवन- कैल्शियम को अवशोषित करने और हड्डियों तक पहुंचाने में विटामिन डी मदद करता है. हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए कैल्शियम के साथ विटामिन डी से भरपूर चीजों का सेवन जरूर करें. इससे हड्डियां मजबूत बनती हैं.

6- हार्मोंस का ध्यान रखें- उम्र के साथ हार्मोंस में काफी बदलाव आते हैं. 50 के पार महिला और पुरुषों में हार्मोंस बदलते हैं. ऐसे में कैल्शियम की कमी होने लगती है. हड्डियों को स्वस्थ रखने के लिए शरीर  में एस्ट्रोजन, प्रोजेस्टेरोन और टेस्टेस्टेरोन का जरूरी है.

7- तनाव से दूर रहें- हड्डियों को मजबूत रखना है तो ज्यादा तनाव में न रहें. इससे हड्डियों को नुकसान पहुंच सकता है. स्ट्रेस से कोर्टिसोल हार्मोन बढ़ने लगता है, जिससे ब्लड शुगर लेवल भी बढ़ सकता है. ऐसे में टॉयलेट के जरिए कैल्शियम शरीर से निकल जाता है.

8- एक्सरसाइज करें- व्यायाम से शरीर को बहुत फायदे मिलते हैं. जब आप एक्सरसाइज करते हैं तो मांसपेशियां हड्डियों के विपरीत खिंचती हैं. इससे हड्डियों में उत्तेजना पैदा होती है. इसलिए आपको रोज एक्सरसाइज जरूर करनी चाहिए.

​कैल्शियम की कमी से होने वाली बीमारियां

अगर शरीर में कैल्शियम की कमी हो जाए तो कई बीमारियां हो सकती हैं. कैल्शियम की कमी होने पर हड्डियां सबसे ज्यादा प्रभावित होती हैं. इससे दातों की समस्या भी होने लगती है. जानते हैं कैल्शियम की कमी से कौन-कौन सी बीमारियां हो सकती हैं.

ऑस्टियोपोरोसिस- कैल्शियम की कमी लंबे समय तक रहने पर ऑस्टियोपोरोसिस होने का खतरा रहता है. इसमें हड्डियां बहुत पतली और कमजोर हो जाती हैं. इससे हड्डियों के टूटने का खतरा ज्यादा रहता है.

कोलन कैंसर का खतरा- शरीर में कैल्शियम की कमी होने पर कोलन कैंसर का खतरा भी बढ़ जाता है. जिन लोगों में कैल्शियम भरपूर होता है उनमें एडिनोमा नाम के ट्यूमर का खतरा कम होता है. जो कोलन से संबंधित है.

​​​हार्ट की समस्या- कैल्शियम की कमी होने पर हार्ट संबंधी बीमारियों का खतरा भी कई गुना बढ़ जाता है. कैल्शियम की कमी से कोलेस्ट्रॉल लेवल भी बिगड़ जाता है. इससे हार्ट की बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है.

​हाई ब्लड प्रेशर- कैल्शियम की कमी से आपका ब्लड प्रेशर भी अनियंत्रित हो जाता है. कैल्शियम कम होने से ब्लड प्रेशर बढ़ने लगता है. ऐसे में आप हाइपरटेंशन के शिकार हो सकते हैं.

Disclaimer: इस आर्टिकल में बताई विधि, तरीक़ों व दावों की एबीपी न्यूज़ पुष्टि नहीं करता है. इनको केवल सुझाव के रूप में लें. इस तरह के किसी भी उपचार/दवा/डाइट पर अमल करने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें.

link

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY Cancel reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exit mobile version