प्रतिबंधित माओवादी संगठन को लेकर NIA की 31 जगहों पर छापेमारी, कई अहम दस्तावेज बरामद, अब तक 6 लोग गिरफ्तार

नई दिल्ली:

प्रतिबंधित माओवादी संगठन सीपीआई माओवादी गतिविधियों को लेकर केंद्रीय जांच एजेंसी एनआईए ने आंध्र प्रदेश के 8 जिलों और तेलंगाना के 4 जिलों मे 31 जगहों पर छापेमारी की. इस छापेमारी के दौरान अनेक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसों में अहम दस्तावेज और दस लाख रुपये की नकदी भी बरामद हुई है. मामला एक कथित पत्रकार से जुड़ा बताया गया है, जिसमें आरोप है कि कथित पत्रकार सुरक्षाबलों की गतिविधियों को प्रतिबंधित संगठन तक पहुंचाया करता था और इस मामले में अब तक कुल 6 लोगों को गिरफ्तार भी किया जा चुका है.

एनआईए के एक आला अधिकारी ने बताया कि मामले की जांच के दौरान अहम तथ्य मिलने पर आंध्र प्रदेश के 8 जिलों विशाखापट्टनम, गुंटुर, कुरनूल, कृष्णा, प्रकाशम, पूर्वी गोदावरी समेत तेलंगाना के 4 जिलों रंगारेड्डी, हैदराबाद, मेडक, मल्काजगीरी में 31 स्थानों पर छापेमारी की गई. इस छापेमारी के दौरान 40 मोबाइल फोन, 44 सिम कार्ड, 70 हार्ड डिस्क, माइक्रो एसडी कार्ड, फ्लैश कार्ड, 184 डीवीडी, सीडी, 19 पेन ड्राइव, ऑडियो रिकॉर्डर, कुल्हाड़ी, माओवादी झंडा समेत 10 लाख रुपये की नकदी भी बरामद हुई. छापेमारी के दौरान सीपीआई माओवादी के बहुत सारे कागजात, प्रेस नोट आदि भी बरामद हुए हैं.

विस्फोटक सामान मिला

एनआईए अधिकारी के मुताबिक यह मामला 23 नवंबर 2020 को विशाखापट्टनम ग्रामीण इलाके में पनागी नागाना नामक आरोपी से जुड़ा हुआ है, जो खुद को कथित तौर पर पत्रकार बताया करता था, पुलिस ने जिस समय उसे पकड़ा उस समय उसके पास से सीपीआई माओवादी की प्रेस नोट, साहित्य, विस्फोटक में प्रयोग की जाने वाली वस्तुएं, तारों के बंडल उसके पास से बरामद होने का भी आरोप है. यह भी आरोप है कि पनागी सुरक्षाबलों के मोमेंट की जानकारी सीपीआई माओवादी के लीडरों को देता था, जिससे उनके खिलाफ कार्यवाही ना हो सके.

पुलिस की कार्रवाई के खिलाफ भड़काया

उस पर यह भी आरोप है कि उसने गांव की जनता को पुलिस की कार्रवाई के खिलाफ भड़काया, जिससे पुलिस दल गांव में न घुस सके और माओवादी लीडरों को गिरफ्तार न कर सके. यह भी आरोप है कि उसने सरकार के खिलाफ रैलियां की और लोगों को भड़काया. विशाखापट्टनम पुलिस ने इस बारे में 23 नवंबर 2020 को वाहन चेकिंग के दौरान पनागी को हिरासत में लिया था और फिर मुकदमा दर्ज किया था. बाद में यह मामला जांच के लिए एनआईए को सौंप दिया गया.

6 लोग गिरफ्तार

एनआईए ने 7 मार्च 2021 को मामले को दर्ज किया और जांच के दौरान अहम सबूत मिलने पर 31 जगहों पर छापेमारी की. एनआईए अधिकारी के मुताबिक इस मामले में अब तक 6 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. जिनमें पनागी नागाना, के अन्नपूर्णा जंगराला श्रीनिवासा राव, एम एस राव, रेला राजेश्वरी और बोपोड़ी अंजना के नाम शामिल है. एनआईए अधिकारी के मुताबिक छापे के दौरान जो इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस आदि बरामद की गई हैं, उनकी जांच की जा रही है और इस आधार पर इस मामले में अभी और भी गिरफ्तारियां हो सकती हैं. फिलहाल मामले की जांच जारी है.

 

 

link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here