भारत रिलायंस फाउंडेशन ने तेज किया कोविड सहायता अभियान, 875 बेड्स वाली चलायेगा...

रिलायंस फाउंडेशन ने तेज किया कोविड सहायता अभियान, 875 बेड्स वाली चलायेगा चिकित्सा सुविधा

0
रिलायंस फाउंडेशन ने तेज किया कोविड सहायता अभियान, 875 बेड्स वाली चलायेगा चिकित्सा सुविधा

रिलायंस फाउंडेशन ने तेज किया कोविड सहायता अभियान, 875 बेड्स वाली चलायेगा चिकित्सा सुविधा

कोरोना महामारी के खिलाफ जंग में रिलायंस फाउंडेशन ने अपनी मदद और तेज कर दी है. रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की शाखा रिलायंस फाउंडेशन ने एक बयान में सोमवार को कहा कि उसने कोविड-19 महामारी के मद्देनजर बढ़ती मेडिकल जरूरतों को देखते हुए मुंबई में अपने अभियान को तेज किया है. रिलायंस फाउंडेशन के अस्पतालोंभारतीय राष्ट्रीय खेल क्लब (एनएससीआई), सेवन हिल्स अस्पताल और ट्राईडेंट, BKC में करीब 775 बेड्स का इंतजाम किया गया है, जिसमें 145 ICU सुविधा से लैस हैं.

एक बयान के मुताबिक

NSCI में सर एचएन रिलायंस फाउंडेशन अस्पताल में 650 चिकित्सा बिस्तरों का इंतजाम किया जाएगा. बयान में आगे कहा गया कि रिलायंस फाउंडेशन 100 नए सघन चिकित्सा इकाई (ICU) बेड्स की स्थापना और प्रबंधन करेगा, जिसे 15 मई 2021 से चरणबद्ध ढंग से चालू किया जाएगा. इसके साथ ही सर एचएन रिलायंस फाउंडेशन अस्पताल कोविड रोगियों के लिए लगभग 650 बेड का संचालन और प्रबंधन करेगा.

बयान में कहा गया कि मरीजों के इलाज के लिए चिकित्सकों, नर्सों और गैरचिकित्सा पेशेवरों के रूप में 500 से अधिक कार्यकर्ता दिनरात सेवा में लगे हुए हैं. इलाज का पूरा खर्च, जिसमें आईसीयू बेड और मॉनिटर, वेंटिलेटर और चिकित्सा उपकरण शामिल हैं, रिलायंस फाउंडेशन द्वारा वहन किया जाएगा.

इसमें आगे कहा गया कि एनएससीआई और सेवन हिल्स अस्पताल में सभी कोविड रोगियों का बिल्कुल मुफ्त इलाज किया जाएगा. रिलायंस फाउंडेशन की संस्थापक और अध्यक्ष नीता अंबानी ने कहा कि कुल मिलाकर फाउंडेशन लगभग 775 बेड का प्रबंधन करेगा, जिसमें 145 आईसीयू बेड शामिल हैं.

उन्होंने कहा, ‘‘रिलायंस फाउंडेशन हमेशा देश की सेवा में सबसे आगे रहा है और यह हमारा कर्तव्य है कि हम महामारी के खिलाफ भारत की अथक लड़ाई में योगदान करें.’’ उन्होंने कहा कि रिलायंस गुजरात, महाराष्ट्र, दिल्ली, मध्य प्रदेश, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और दमन, दीव और नगर हवेली को 700 टन ऑक्सीजन रोज दे रहा है.

 

link

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exit mobile version