विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण में बंगाल की 30 और असम की 39 सीटों पर वोटिंग कल, जानें किन सीटों और चेहरों पर रहेगी नजर

विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण में पश्चिम बंगाल की 30 और असम की 39 सीटों पर गुरुवार को वोटिंग होने जा रही है. बंगाल में 75 लाख वोटर्स 191 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला करेंगे. लेकिन, इस चरण में सबकी नजरें हाई प्रोफाइल नंदीग्राम सीट पर टिकी है, जहां मुख्यमंत्री ममता बनर्जी अपने पूर्व सहयोगी और बीजेपी उम्मीदवार शुभेंदु अधिकारी के खिलाफ मैदान में हैं. पूर्व मेदिनीपुर शुभेंदु अधिकारी का गृह जिला है और इसी जिले में नंदीग्राम सीट आती है.

वोटिंग सख्त कोविड-19 दिशा-निर्देशों के बीच होगी. पश्चिम मेदिनीपुर की 9 सीटों, बांकुड़ा की 8,  दक्षिण 24 परगना की 4 और पूर्व मेदिनीपुर की 9 सीटों पर गुरुवार की सुबह 7 बजे से वोट डाले जाएंगे. अधिकारियों ने बताया कि निर्वाचन आयोग ने सभी 10,620 मतदान केंद्रों को संवेदनशील घोषित किया है और केंद्रीय बलों की करीब 651 कंपनियों को तैनात किया गया है. बंगाल में दूसरे चरण के चुनाव के दौरान कई चेहरों पर नजर रहेगी.

बंगाल में कौन कौन कहां से हैं मुख्य उम्मीदवार-

नंदीग्राम- मुख्यमंत्री ममता बनर्जी बनाम बीजेपी के शुभेंदु अधिकारी और सीपीएम की मिनाक्षी मुखर्जी

डेबरा- बीजेपी की भारती घोष बनाम टीएमसी के हुमायूं कबीर

बांकुरा- अभिनेत्री से टीएमसी के उम्मीदवार बनी सायंतिका बनर्जी बनाम बीजेपी निलाद्री शेखर दाना

खड़गपुर सदर- अभिनेता से बीजेपी के उम्मीदवार बने हिरन चटर्जी बनाम टीएमसी के प्रदीप सरकार

सबांग-  टीएमसी के मानस रंजन भूनिया बनाम बीजेपी के अमूल्य मैती

मोयना- किक्रेटर से बीजेपी के उम्मीदवार बने अशोक डिंडा बनाम टीएमसी के संग्राम डोलाई

चंडीपुर- टीएमसी के सोहम चक्रवर्ती  बनाम बीजेपी के पुलक कांति गुरिया 

तृणमूल कांग्रेस और भाजपा इस चरण की सभी 30 सीटों पर चुनाव लड़ रही हैं, जबकि माकपा ने 15 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारें हैं. वहीं संजुक्त (संयुक्त) मोर्चा में शामिल कांग्रेस ने 13 सीटों पर और आईएसएफ ने दो सीटों पर अपने प्रत्याशी खड़े किए हैं. 

असम में दूसरे चरण के चुनाव में पांच मंत्री

असम विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण में गुरुवार को 39 सीटों पर होने जा रहे मतदान में पांच मंत्रियों, (विधानसभा) उपाध्यक्ष और कुछ अहम विपक्षी नेताओं के राजनीतिक तकदीर का फैसला होगा. इस चरण में 26 महिलाओं समेत 345 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं जिसके लिए बृहस्पतिवार को सुबह सात बजे से लेकर शाम छह बजे तक कड़ी सुरक्षा एवं कोविड-19 के दिशानिर्देशों के कड़े अनुपालन के बीच वोट डाले जाएंगे.

इस चरण में सत्तारूढ़ भाजपा 34 सीटों पर ताल ठोक रही है जबकि उसकी सहयोगी पार्टियां असम गण परिषद(अगप) एवं यूनाईटेड पीपुल्स पार्टी लिबरल (यूपीपीएल) क्रमश: 6 और 3 सीटों पर जोर-आजमाइश कर रही हैं. हालांकि पाठरकांडी और अल्गापुर में बीजेपी और असम गण परिषद के बीच दोस्ताना मुकाबला है. माजबात और कलैगांव में भी बीजेपी और यूपीपीएल के बीच दोस्ताना संघर्ष है.

महागठबंधन से जुड़ी कांग्रेस 28 सीटों पर चुनाव लड़ रही है जबकि एआईयूडीएफ सात एवं बोडोलैंड पीपुल्स फ्रंट (बीपीएफ) चार सीटों पर विरोधी दलों से दो दो हाथ करेंगी. नवगठित असम जातिया परिषद (एजेपी) 19 सीटों पर चुनाव मैदान में है.

25 सीटों पर एनडीए और महागठबंधन के बीच मुकाबला

इस चरण में 25 सीटों पर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन और महागठबंधन में सीधा मुकाबला है जबकि बाकी सीटों पर त्रिकोणीय मुकाबला नजर आ रहा है. बीजेपी के मंत्री परिमल सुक्लावैद्य का धोलाई में कांग्रेस प्रत्याशी कामाख्या प्रसाद माला से सीधा मुकाबला है. बीजेपी के विधानसभा उपाध्यक्ष अमीनुल हक लस्कर का सोनाई में एआईयूडीएफ के करमी उद्दीन बारभूइंया से सीधी टक्कर है. मंत्री पीजूष हजारिका का जागीरोड सीट (अनुसूचित जाति आरक्षित) पर कांग्रेस के स्वप्न कुमार मंडल और एजेपी के बुबुल दास के साथ त्रिकोणीय संघर्ष है. उनके मंत्रिमंडलीय सहयोगी भाबेश कलिता का रंगिया निर्वाचन क्षेत्र में एजेपी के बाबुल शहरिया से सीधी टक्कर होगी.

link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here