लाइफस्टाइल हेल्थ अगर आप भी रात में करवट से सोते हैं तो ये खबर...

अगर आप भी रात में करवट से सोते हैं तो ये खबर आपको जरूर पढ़नी चाहिए

0
7
अगर आप भी रात में करवट से सोते हैं तो ये खबर आपको जरूर पढ़नी चाहिए

अगर आप भी रात में करवट से सोते हैं तो ये खबर आपको जरूर पढ़नी चाहिए

नई दिल्लीः

रात की नींद हमारे शरीर को दिमाग को आराम देती है और हमें फिर से रिचार्ज करती है. लेकिन सोने की हमारी कुछ आदतें, हमें परेशान भी कर सकती हैं. बहुत से लोग करवट से सोते हैं लेकिन यह सोने का सही तरीका नहीं है. इससे हमारे शरीर में कई परेशानी हो सकती है. तो आइए जानते हैं कि हमें करवट से क्यों नहीं सोना चाहिए और इससे हमें क्या नुकसान हो सकता है.

गर्दन और कमर में दर्द

करवट से सोने से हमारी गर्दन और कमर में दर्द हो सकता है. इसके अलावा हमारे घुटने में दर्द, शरीर में जकड़न की समस्या भी हो सकती है. दरअसल करवट से सोने से हमारी मसल्स में तनाव आ जाता है. ऐसे में जब हम सुबह उठते हैं तो इससे हमारे शरीर में दर्द व जकड़न की समस्या रहती है, जो कुछ समय तक रह सकती है. अगर हम शारीरिक व्यायाम के लिए समय नहीं निकाल पा रहे हैं तो यह समस्या गंभीर भी हो सकती है.

शरीर के अंदरूनी अंगों पर पड़ता है दबाव

एक करवट से सोने से शरीर के अंदरुनी अंगों पर दबाव भी पड़ता है. जिससे लंबे समय में गंभीर समस्या हो सकती है. खासकर गर्भवती महिलाओं को करवट से बिल्कुल नहीं सोना चाहिए. वरना इससे उन्हें और उनके बच्चे को कई तरह की परेशानियां हो सकती हैं.

हाथ सिर के नीचे सोना से हो सकती है नर्व डैमेज

कई लोगों को अपना हाथ सिर के नीचे रखकर ही नींद आती है. लेकिन ये आदत भी खतरनाक हो सकती है. दरअसल इस तरीके से सोने से हमारी नर्व डैमेज हो सकती है, जिससे हमारे हाथों में झनझनाहट की समस्या हो सकती है. दरअसल सिर के नीचे हाथ रखकर सोने से हमारे हाथ में ब्लड सर्कुलेशन ठीक तरह से नहीं होता. साथ ही ब्रेन में भी ब्लड सर्कुलेशन प्रभावित होता है. ऐसे में सिर के नीचे तकिया रखकर सोएं या फिर हो सके तो पीठ के बल सीधे ही सोएं.

पेट के बल सोने से होगी ये परेशानी

कुछ लोगों को पेट के बल सोने की भी आदत होती है लेकिन यह भी सही आदत नहीं है. दरअसल इससे सीने में जलन की समस्या हो सकती है. एक रिसर्च के अनुसार, पेट के बल सोने से सीने में जलन की समस्या हो सकती है. इसलिए पीठ के बल या फिर बायीं करवट से सोना ज्यादा ठीक है. इससे हमारे शरीर का पाचन ठीक रहता है और एसिड भी नहीं बनता.

(डिस्कलेमर- यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं पर आधारित है. किसी भी तरह की समस्या होने पर डॉक्टर के परामर्श से ही कोई काम करें. )

 

 

link

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here