लाइफस्टाइल हेल्थ High Blood Pressure कंट्रोल करने में मदद कर सकता है टमाटर का...

High Blood Pressure कंट्रोल करने में मदद कर सकता है टमाटर का जूस

0
309
High Blood Pressure कंट्रोल करने में मदद कर सकता है टमाटर का जूस

High Blood Pressure कंट्रोल करने में मदद कर सकता है टमाटर का जूस

नई दिल्ली: जब बात हेल्दी खाने की आती है तो बहुत से लोगों को लगता है कि हेल्दी फूड में कोई स्वाद नहीं होता. लेकिन ऐसा नहीं है ऐसे कई फूड्स और ड्रिंक्स हैं जो आपकी सेहत के लिए भी बेहद फायदेमंद हैं और जिनका स्वाद भी आपको अच्छा लगता है. इन्हीं में से एक है टमाटर. आपको जानकर हैरानी होगी कि रोजाना सिर्फ एक गिलास टमाटर का जूस (Tomato Juice) पीकर आप अपने ब्लड प्रेशर को कंट्रोल (Blood Pressure Control) में रख सकते हैं और एक बार बीपी कंट्रोल में आ गया तो हार्ट भी हेल्दी रहेगा क्योंकि हृदय रोग का सबसे अहम जोखिम कारक हाइपरटेंशन ही है.

टमाटर के जूस को लेकर क्या कहती है ये स्टडी

अमेरिकी वेबसाइट healthline.com की एक रिपोर्ट में बताया गया है कि फूड साइंस एंड न्यूट्रिशन नाम के जर्नल में जापान के शोधकर्ताओं की एक नई स्टडी प्रकाशित हुई है. इस स्टडी में शामिल प्रतिभागियों पर करीब 1 साल तक नजर रखी गई और इस दौरान यह नतीजे सामने आए कि जिन लोगों ने रोजाना करीब 1 कप बिना नमक वाला टमाटर का जूस पीया, उनके ब्लड प्रेशर में 12 महीने के दौरान काफी हद तक कमी देखने को मिली. साथ ही इन लोगों के शरीर में मौजूद बैड कोलेस्ट्रॉल (LDL) को भी कम करने में मदद मिली. ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) ही हार्ट डिजीज के सबसे बड़े और अहम जोखिम कारक माने जाते हैं.

हृदय रोग है मौत का सबसे बड़ा कारण

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की साल 2020 की रिपोर्ट में यह बात सामने आ चुकी है कि दुनियाभर में लोगों की मौत का सबसे बड़ा कारण हृदय रोग (Heart Disease) ही है. आसान शब्दों में समझें तो हर साल हृदय रोग की वजह से ही सबसे अधिक लोगों की मौत होती है. ऐसे में हाई ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करके काफी हद तक हार्ट डिजीज के खतरे से बचा जा सकता है.

ब्लड प्रेशर कम कर सकता है टमाटर का जूस

इस स्टडी में 184 पुरुषों को और 297 महिलाओं को शामिल किया गया था और उन्हें बिना नमक वाला टमाटर का जूस पीने की सलाह दी गई. स्टडी के आखिर में शोधकर्ताओं ने पाया कि इनमें से 94 प्रतिभागी जिन्हें पहले से प्रीहाइपरटेंशन या हाइपरटेंशन (Hypertension) की समस्या थी लेकिन उसका इलाज नहीं किया गया था उन लोगों में ब्लड प्रेशर के नंबर काफी कम हो गए. सिस्टॉलिक ब्लड प्रेशर (बीपी का ऊपर का नंबर) 142 से घटकर 137 mmHg हो गया तो वहीं डायसिस्टोलिक ब्लड प्रेशर (बीपी का नीचे वाला नंबर) 83.3 से घटक 80 हो गया.

हालांकि अगर आप हाई ब्लड प्रेशर के मरीज हैं तो अपनी डाइट में इस तरह का कोई भी बदलाव करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें.

(नोट: किसी भी उपाय को करने से पहले हमेशा किसी विशेषज्ञ या चिकित्सक से परामर्श करें. Zee News इस जानकारी के लिए जिम्मेदारी का दावा नहीं करता है.)

 

link

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here