More.. नौकरी UPSSSC PET General Knowledge 2021: जानिए इतिहास के वो महत्वपूर्ण प्रश्न जो...

UPSSSC PET General Knowledge 2021: जानिए इतिहास के वो महत्वपूर्ण प्रश्न जो PET में दिला सकते हैं आपको अच्छा स्कोर

0
UPSSSC PET General Knowledge 2021: जानिए इतिहास के वो महत्वपूर्ण प्रश्न जो PET में दिला सकते हैं आपको अच्छा स्कोर

UPSSSC PET General Knowledge 2021: जानिए इतिहास के वो महत्वपूर्ण प्रश्न जो PET में दिला सकते हैं आपको अच्छा स्कोर

अगर आपने भी यूपी अधीनस्थ सेवा चयन आयोग (UPSSSC)  द्वारा लागू की गई प्रारम्भिक अहर्ता परीक्षा (PET) के लिए आवेदन किया था तो आपको इस बात की भी जानकारी होगी कि आने वाले 20 अगस्त को यूपी सबऑर्डिनेट सर्विस सेलेक्शन कमीशन द्वारा दो पालियों ने इस एग्जाम को कराया जाना है। ऐसे में अब परीक्षा में 30 दिन से भी कम समय बचा है और अभ्यर्थियों को आज से पूरे सिलेबस का कंप्लीट रीविजन शुरू कर देना चाहिए जिसके लिए वे आज ही सफलता द्वारा उपलब्ध कराई जा रही फ्री कोर्स को सब्सक्राइब कर  सकते हैं जिसे दिल्ली की एक्सपर्ट फैकल्टी द्वारा डिजाइन किया गया है। इस फ्री कोर्स में PET में पूछे जा सकने वाले सभी महत्वपूर्ण सवालों को शामिल किया गया है ताकि इस ई-बुक से पढ़ाई करने वाले छात्रों को एग्जाम में बेहतर स्कोर हासिल करने में मदद मिल सके। इसके अलावा आज हम इस आर्टिकल के जरिए आपको इतिहास के कुछ ऐसे प्रश्नों को बताने जा रहे हैं जोकि हाल ही में होने वाली प्रारम्भिक अहर्ता परीक्षा में आ सकते हैं।

इतिहास के सभी महत्वपूर्ण सवाल 

1. क्या आप जानते हैं कि महबूब-ए-इलाही किसे कहा जाता था?

आपको बता दें कि नजामुद्दीन औलिया को महमुब-ए-इलाही कहा जाता था जोकि बाबा फरीद का शिष्य था।

2. सूफी परंपरा के अनुसार पीर किसे कहा जाता है?

जो लोग सूफी परंपरा को मानते होंगे उन्हें मालूम होगा कि सूफी परंपरा के  में पीर का अर्थ गुरु होता हैं जबकि शिष्य को मुरीद कहा जाता है। सूफी दर्शन के अनुयायी केवल एक ईश्वर में विश्वास करते हैं।

3. दीवाने-ए-कोही विभाग की स्थापना किसके समय काल में हुई थी?

मुहम्मद बिन तुगलक ने कृषि के विकास के लिए दीवाने-ए-कोही विभाग की स्थापना की थी। इसके अलावा उसने दोआब क्षेत्र में कर की मात्रा में वृद्धि (प्रथम योजना) की भी शुरुआत की थी।

4. हजारदिनारी के नाम से कौन जाना जाता था?

अलाउद्दीन खिलजी के सेनापति मालिक काफ़ुर को हजारदिनारी के नाम से जाना जाता था। अलाउद्दीन की मृत्यु के बाद मालिक काफ़ुर ही 35 दिनों तक शासक बना था। सेनापति रहते हुए उसने देवगिरी, वारंगल, द्वार समुद्र, मालाबार, एवं मदुरा की महत्वपूर्ण विजय प्राप्त की थी।

5. सिक्कों पर तारीख लिखे जाने की पृथा की शुरुआत किसके शासनकाल में हुई थी?

अलाउद्दीन खिलजी ने सिक्कों पर तारीख लिखे जाने की पृथा की शुरुआत की थी। इसके अलावा इसी शासक ने मद्य-निषेध, जुआ खेलने एवं भंग खाने में प्रतिबंध लगा दिया था।

यहां पढ़ें ऐसे कई महत्वपूर्ण प्रश्न  

अगर आप भी घर पर रहकर अपनी प्रतियोगी परीक्षाओं की पक्की तैयारी करना चाहते हैं या अपने किसी भी एग्जाम का पूरा रीविजन करना चाहते हैं तो आज ही  Safalta  द्वारा चलाई जा रही फ्री Class को ज्वॉइन कर सकते हैं। आप अपने फोन में  Safalta-app डाउनलोड कर भी कोर्सेस का हिस्सा बन सकते हैं।

link

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Exit mobile version