Defense Minister Rajnath Singh likely to brief Rajya Sabha on LAC – रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह विपक्ष के हंगामे के बाद कल चीन के मुद्दे पर सवालों के जवाब दे सकते हैं

    0
    255

    Defense Minister Rajnath Singh likely to brief Rajya Sabha on LAC – रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह विपक्ष के हंगामे के बाद कल चीन के मुद्दे पर सवालों के जवाब दे सकते हैं

    नई दिल्ली:

    भारत-चीन गतिरोध: रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह) ने गुरुवार को लद्दाख में भारत और चीन की बीए लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (LAC) के बीच तनाव के बीच विपक्ष के सवालों का जवाब देने की संभावना है। सरकार आखिरकार संसद के सत्र में स्पष्टीकरण देने के लिए तैयार हो गई है जिसमें विपक्ष ने बहुत कम चर्चा के लिए सरकार पर निशाना साधा है। दोपहर में, रक्षा मंत्री एलएसी को भड़काने के लिए चीन द्वारा उठाए गए कदमों और उसके द्वारा भारत द्वारा उठाए गए उपायों के बारे में राज्यसभा में बोल सकते हैं। सीमा पर बने तनाव के बारे में विस्तृत विवरण दिया

    उन्होंने कहा था, “सरकार की विभिन्न खुफिया एजेंसियों के बीच समन्वय का एक विस्तृत और समय-परीक्षणित तंत्र है, जिसमें केंद्रीय पुलिस बल और तीन सशस्त्र बलों की खुफिया एजेंसियां ​​शामिल भी हैं। अभी कुछ दिन पाहिले ही नरेंद्र मोदी जी ने लद्दाख का दौरा करके हमारे होनहार और बहादुर सैनिकों से मिलकर उन्हें यह पैगाम दिया कि सभी देशवासी अपने बहादुर सैनिकों के साथ खड़े हैं। “उन्होंने कहा,” मैंने भी लद्दाख में अपने शूरवीरों के साथ कुछ समय बिताया है और मैं आपको बताना चाहता हूं कि मैंने उनके अदम्य साहस, पराक्रम और पराक्रम को महसूस किया है। अप्रैल से, पूर्वी लद्दाख की सीमा के साथ चीनी सेनाओं और उनकी युद्ध सामग्री की संख्या में वृद्धि हुई थी। मई के महीने की शुरुआत में, चीन ने गैलन वैली क्षेत्र में हमारे सैनिकों के सामान्य, पारंपरिक पैट्रोलिंग पैटर्न को बाधित करना शुरू कर दिया, जिससे चेहरे की स्थिति खराब हो गई। 6 जून 2020 को LIC की वृद्धि को देखते हुए, दोनों पक्षों के सैन्य कमांडरों ने एक मीटिंग की ऐसा भी राजनाथ सिंह ने कहा है। और उस मीटिंग में यह बात का समझौता किया गया की बातचीत के माध्यम से विघटन किया जाना चाहिए। दोनों पक्ष इस बात पर भी सहमत हुए कि एलएसी पर विचार किया जाएगा और ऐसा कोई नहीं होगा। कार्रवाई की जाएगी, जिससे यथास्थिति बदल जाएगी। ”

    15 जून को गालवन में चीन द्वारा इस सहमति के विरोद में घातक चेहरे की स्थिति बनाई गई थी ऐसा राजनाथ ने कहा । हमारे होनहार और इमानदार सैनिकों ने अपने प्राणों का बलिदान दिया, लेकिन साथ ही साथ चीनी पक्ष को बहुत नुकसान पहुँचाया और अपनी सीमा की रक्षा करने में सफल रहे। इस पूरी अवधि के दौरान, हमारे बहादुर सैनिकों नेजहां शूरता की आवश्यकता थी वहा शूरता दिखाइ और जहा संयम की आवश्यकता थी वहा संयम बनाये रखा। हमारी वीरता और शूरता की कुतूहल में मेरा साथ दें ऐसा मैं सदन से विनती करता हूं । रक्षा मंत्री ने कहा कि सीमा पर सैनिक पूरी तरह से सतर्क हैं। भारत चाहता है कि इस मुद्दे को बातचीत के जरिए सुलझाया जाए। उन्होंने बताया कि मॉस्को में चीन के रक्षा मंत्री के साथ एक बैठक में मैंने सभी बातें मजबूती से रखीं। अगर चीन वहां से अपनी सेना हटा लेता है तो यह बात बन सकती है। हालात अब अलग हैं और भारत हर तरह की परिस्थितियों से निपटने के लिए तैयार है।

    पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने लोकसभा के निचले सदन में चीन और भारत के बीच तनाव के मुद्दे पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा दिए गए बयान पर हमला किया है। रक्षा मंत्री अपने बयां में ये कहा की राहुल गांधी ने अपने एग्जीक्यूटिव ट्विटर account पर एक twit डाल दिया , उसमे उन्होंने बतया की , “रक्षा मंत्री के बयान से यह बात स्पष्ट पता चलती है कि मोदी जी ने चीनी हमले पर अपने देश को confuse किया है ।” भारतीय सेना के साथ हमारा देश हमेशा खड़ा रहा है, और मरते दम तक रहेगा रहेगा। पर माननीय मोदीजी, आप चीन के विरोध में कभी खड़े होंगे? “उसके के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (कांग्रेस) ने यह भी बताया की चीन के साथ गतिरोध पर के बयान के बाद, कांग्रेस (कांग्रेस) ने मंगलवार को आरोप लगाया है कि उसके नेताओं को लोकसभा में सीमा पर खड़ा किया गया था, यही बात वो बड़े ही शांतिपुवक और इज्जत से बताना चाहते थे। पर आखिर मैंने अपनी सरकार ने उसपर ऐसा रोख लगाया और ये सीधी तरके से होने नहीं दिया। इन सब घटना के साथ ही, सरकार पर चर्चा करने से डरने का भी आरोप पार्टी ने लगाया। और ये सब करते हुए उन्होंने एक प्रस्ताव की बात की, तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (पीएम नरेंद्र मोदी) सदन में मौजूद थे तो आप क्यों नहीं थे?

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here